काली चुड़ैल की डरावनी कहानी

5/5 - (1 vote)

काली चुड़ैल कि शादी | Kali Chudail | Stories in Hindi

Kali Chudail ki Hindi Kahani: एक समय की बात है एक बार सीता और माया अपने गांव जा रही थी रास्ते में एक बहुत ही डरावना जंगल पड़ता था। सीता और माया बात करते हुए अपने रास्ते जा रहे थे अचानक ही गाड़ी खराब हो जाती है और वह सीता और माया एक दूसरे कि ओर देखती है । सीता बोलती है? कि पता नहीं गाड़ी में क्या हो गया कि यह स्टार्ट होने का ही नाम नहीं ले रही है .

अभी माया ने कहा कि कुछ गाड़ी के इंजन में खराबी होने के कारण शायद स्टार्ट नहीं हो रही। चलो नीचे उतर कर गाड़ी की जांच करते हैं। जब सीता और माया गाड़ी से नीचे उतरे तब अचानक ही हवाएं थम गई ऐसा लग रहा था कि कुछ अलग ही महसूस हो रहा हो पर्यावरण में अचानक परिवर्तन आ गया सीता ने बोला कि कुछ अजीब सी हरकत हो रही है।

वह दोनों गाड़ी सुधार लग जाती है तभी उनके पीछे से कुछ अचानक भागने की एहसास होती है सीता और माया दोनों की पीछे देखते हैं लेकिन कुछ नहीं दिखाई देता तभी सीता ने बोलती है कि कौन है सामने आओ तभी काली चुड़ैल उन दोनों के सामने आ जाती है और बोलते हैं कि मैं हूं काली चुड़ैल।

तभी सीता और माया दोनों काफी ज्यादा डर जाती है और वहां से भागने लगती है सीता और माया को सामने एक आश्रम दिखाई देता है वह दोनों आश्रम के अंदर चली जाती है तभी वहां पर एक मुनिराज दिखाई देते हैं उन दोनों लड़कियों को देखते हुए सभी बात को समझ जाता है सीता और माया उनसे बोलती है कि हमको एक चुड़ैल मारना चहाती हैं। तभी मुनि ने बोला कि मैं सब जानता हूं।

तभी सीता ने बोला कि वह चुड़ैल हमें क्यों मारना चाहती है तभी मुनि ने बताया कि वह पहले काली चुड़ैल का नाम पहले काली था कुछ समय पहले वह अपनी मां के साथ इस गांव में रहती थी वह बहुत ही काली थी उसकी मां बहुत बोलती थी कि कुछ हल्दी चंदन लगाया कर ताकि तेरा रंग गोरा हो सके।

तभी काली बोलती है कि मैं काली ही ठीक हूं क्योंकि कोयला कभी सफेद नहीं होता तभी मां बोलती है कि इस बात का एहसास तुझे अभी नहीं होगा इसका बात का एहसास तब होगा जब तेरी शादी होगी कोई लड़का तेरे को पसंद नहीं करेगा।

kali chudail ki kahani

आखिरकार ऐसा ही हुआ कुछ दिनों बाद काली शादी लायक हो गई तो उसको लड़के वाले देखने आते हैं और उसे मना कर देते हैं क्योंकि उसका रंग बहुत ही काला था तभी एक दिन काली जैसा रंग वाला लड़का उसका हाथ मांगने के लिए उसके घर पर आया हूं तब काली ने विश्वास हुआ कि कोई तो मेरे लिए है जो मेरे से शादी करना चाहता है।

उस लड़के ने काली के साथ शादी करने के लिए हां कर दी। उसके बाद वह लड़का घर चल जाता है काली शादी की तैयारियों में लग जाती है तभी किसी दूसरे इंसान से पता चलता है कि उसकी शादी किसी और के साथ हो रही है।

यह बात सुनने के बाद काली उसके लड़के के घर चली जाती है और वह देखकर है कि वह लड़का किस दूसरी लड़की से शादी कर रहा है तभी उस लड़की को और बोलती है कि इससे शादी क्यों कर रहे हो तभी वह बोलता है कि मेरे को एक अच्छी और गोरी लड़की मिल गई इसलिए मैं इससे शादी कर रहा हूं अभी मैं आपसे शादी नहीं कर सकता काली ने उस लड़के को शादी के लिए पकड़कर अपने साथ लाने की कोशिश करती है।

लेकिन उस लड़के ने काली को धक्का देकर नीचे गिरा देता है और वहां खड़े सभी लोग उस पर बारी-बारी से हंसने लगते हैं तभी काली बोलती है कि जितना हंसना चाहते हो उतना हंस लो इसके बाद आप लोग हंसने के लिए नहीं रहोगे क्योंकि आज के बाद कोई भी इंसान गोरा नहीं बचने वाला है।

उसके बाद काली उस अग्नि के हवन में कुदकर मर गई उसके बाद वह जो भी गोरे लड़का या लड़की को देखना है तो उसे मार देती है उस काली चुड़ैल से परेशान होकर जो लोग गांव में गोरे हैं वह सभी गांव छोड़कर निकल गए। अब जब भी वह किसी गोरे इंसान को देखती है तो उसे खत्म कर देती है तभी माया ने पूछा कि इसका कोई तो इलाज होगा जिससे इस समस्या का समाधान किया जा सके।

अभी मुनिराज ने बोला कि इसका एक उपाय है यह माता के पास रखी त्रिशूल के माध्यम से इसका अंत हो सकता है और वह वही इंसान कर सकता है जो उस काली चुड़ैल के चंगुल से एक बार बच कर वापस आ जाए तभी मुनिराज ने बोला कि यह काम सिर्फ आप ही दोनों कर सकते हो क्योंकि आपने ही उस काली चुड़ैल के चंगुल से बचकर आए हैं।

तभी सीता ने बोला कि हमें किसी प्रकार का कोई नुकसान तो नहीं होगा तभी मुनि ने बोला कि आप को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होगा आपके पास माता रानी का त्रिशूल है तभी माया और सीता ने निर्णय लिया कि हम उस काली चुड़ैल का अंत करेंगे। मुनि ने माता रानी के त्रिशूल को उनके हाथों में सौंप कर कुमकुम का टीका लगाकर विजय भव कहकर काली चुड़ैल की और भेज दिया ।

काली चुड़ैल का खात्मा –  Kali Chudail ka khatma  

जब सीता और माया उस आश्रम से बाहर निकली तो काली चुड़ैल उसके सामने आ गई काली चुड़ैल ने कहा कि अब मैं तुम्हें मरने वाली हूं तुम बचकर नहीं जा सकते तभी सीता और माया नहीं उस काली चुड़ैल को और भड़का दिया उसके बारे में बताकर तभी काली चुड़ैल ने बोला कि तुम मेरे बारे में सभी जानते हो तो अब तुम मेरे से नहीं बच सकती

जब काली चुड़ैल ने माया पर हमला किया तो सीता ने पीछे से देवी के त्रिशूल के माध्यम से उस पर हमला कर दिया और वह काली चुड़ैल खत्म हो गई उसकी आत्मा उस त्रिशूल में समा गई इस प्रकार से उस काली काली चुड़ैल का अंत हुआ सभी ने चेन कि सांस ली
इस प्रकार से उस काली चुड़ैल का अंत हुआ

शिक्षा : इससे यह शिक्षा मिलती है कि काली ताकत कितनी क्यों ना हो सत्य कि हमेशा जीत होती है।

और पढ़े

अधूरे प्यार की कहानी

Leave a Comment